logo
सभी प्रमुख मंदिरों की जानकारी एवं लाईव दर्शन और मंदिरों के द्वारा समाज के प्रति दी जा रही सेवाएं जैसे स्वास्थ्य सेवाएं, विवाह संबंधी जानकारी, स्व-रोजगार एवं कौशल विकास हेतु प्रशिक्षण-रोजगार एवं कौशल विकास हेतु प्रशिक्षण

Live Darshan

श्रीसिद्धिविनायक मंदिर
श्री सिद्धिविनायक मंदिर
Watch Now
Ram Mandir, Ayodhya
राम मंदिर, अयोध्या
Watch Now
श्री सोमनाथ मंदिर मंदिर
श्री सोमनाथ मंदिर
Watch Now
श्री ओंकारेश्वर ज्
श्री ओंकारेश्वर ज्योतिर्लिंग
Watch Now
श्रीमहाकालेश्वर मंदिर
श्री महाकालेश्वर मंदिर
Watch Now
श्री काशी विश्वनाथ मंदिरमंदिर
श्री काशी विश्वनाथ मंदिर
Watch Now
श्री त्र्यंबकेश्वर मंदिरदिरमंदिर
श्री त्र्यंबकेश्वर मंदिर
Watch Now
श्री माता वैष्णो देवी मंदिर
श्री माता वैष्णो देवी मंदिर
Watch Now
श्री माता चिन्तपुरनी जी
श्री माता चिन्तपुरनी जी
Watch Now
माँ झण्डेवाली देवी
माँ झण्डेवाली देवीरनी जी
Watch Now
श्री बाँकेबिहारी जी वृन्दावन
श्री बाँकेबिहारी जी वृन्दावन
Watch Now
चन्द्रोदय मन्दिर, वृन्दावन
चन्द्रोदय मन्दिर, वृन्दावन
Watch Now
इस्कॉन मंदिर, वृन्दावन
इस्कॉन मंदिर, वृन्दावन
Watch Now
ISKCON Delhi Temple
इस्कॉन मंदिर दिल्ली
Watch Now
इस्कॉन मंदिर, मायापुर
इस्कॉन मंदिर, मायापुर
Watch Now

Katha/Kirtan

Shri Devkinandan Thakur Ji
Shri Devkinandan Thakur Ji
श्रीमद् भागवत कथा
Watch Now
Shri Aniruddhacharya ji
Shri Aniruddhacharya ji
श्रीमद्भागवत कथा ।
Watch Now
Ramesh Bhai Ojha
Ramesh Bhai Ojha
 Shree Ram Katha |
Watch Now
Mridul Krishan Shastri Ji
Mridul Krishan Shastri Ji
Lahar, Bhind
Watch Now
Shri Morari Bapu Ji Maharaj
Shri Morari Bapu Ji Maharaj
Ram Katha
Watch Now
Sant Kriparam Ji Maharaj
Sant Kriparam Ji Maharaj
Shrimad Bhagwat Katha
Watch Now
Shri Kaushik Ji Maharaj
Shri Kaushik Ji Maharaj
श्रीमद भागवत कथा
Watch Now
Shri Himesh Shastri Ji Maharaj
Shri Himesh Shastri Ji Maharaj
Shri Ram Katha
Watch Now
पूज्य श्री दीनबंधु दास जी महाराज
पूज्य श्री दीनबंधु दास जी महार...
श्रीमद् भागवत कथा
Watch Now
Giribapu ji Maharaj
Giribapu ji Maharaj
Shiv Katha
Watch Now
Pujya Shri Indresh Ji
Pujya Shri Indresh Ji
Shrimad Bhagwat Katha | Day 1 | Pujya Shri Indresh Ji | Shri Ajneshwar Dham Jodhpur
Watch Now
Shri Rajender Das Maharaj Ji
Shri Rajender Das Maharaj Ji
|| श्रीमद् भागवत कथा || श्रीआनंद धाम वृंदावन || Day-6 || Shri Rajendra das ji maharaj ||
Watch Now
Swami Avdheshanand Giri ji Maharaj
Swami Avdheshanand Giri ji Mah...
Shreemad Bhagwat Katha, Nagpur
Watch Now
Shri Krishna Chandra Shastri (Thakur Ji)
Shri Krishna Chandra Shastri (...
 "Shrimad Bhagwat Katha"
Watch Now
img1
Visit More
Visit More

Temples

Shri Luxmi Narain Sanatan Dharam Mandir, Lajpat Nagar-III
Shri Luxmi Narain Sanatan Dhar...
Shri Luxmi Narain Sanatan Dharam Mandir is one of the popular temples in Lajpat Nagar-III, New Delhi. Lajpat Nagar Colony, New Delhi came into existence by developing the land area south of India Gate beyond Dargah of Hazrat Nizammudin and the basti of Bhogal in the name of Great freedom fighter Punjab Keri Lela Lajpat Rai in order to rehabilitate the people who migrated as refugees from the erstwhile province of Punjab, Sind and NWF after the partition on India in August 1947, wherein Shri Sanatan Dharam Sabha was originally established in the hutments of Block ‘E’, Krishna Market , Lajpat Nagar-I, and was registered by registrar of societies, Delhi under Registration No. S-466(1950-1951). The Puja of moving idols of Deities was performed by Pt. Maya Ram Pujari. A piece of land measuring 1200 Sq yards for the construction of Mandir building was obtained from the Govt. of India (L&DO;) in Lajpat Nagar-I which was subsequently got exchanged in Lajpat Nagar-II and in addition obtained the adjoining plot measuring 929 Sq yards for social & cultural purpose in order to serve the public of entire Lajput Nagar I, II, III, IV. The work for construction of the building was started by selfless, dedicated and sincere members of integrity under the Presidentship of Seth Kalu Ram Ahuja, an eminent personality of the time in the association of knowledgeable General Secretaries for 23 years till his demise in December 1973. They raised funds by arranging Religious Parbhat Pheries , Bhagawat Kathas and Sammelans etc. and built a big Aarti hall on the plot of 1200 sq. yds. accommodating three shrines therein on the design of the Birla mandir, New Delhi. The foundation stone of which was laid down on Sharwan Purnima (Rakshabandhan) of 1958 (29.08.1958) by his Majesty. And the Darshanik idols of Deities Bhagwan Shree Laxmi Narain Ji gifted by Sh. Mool Chand Bhatia & Company, Electrical Contractors, Asaf Ali Road, New Delhi were installed in the Central Shrine with great pomp and Show during march 1961 and the Puja was performed by Pt. Maya Ram Ji. The idols of the Deities as mentioned below were also installed in the other two shrines and on the wall of art hall:- Bhagawan Shree Shiv Shanker Ji gifted by Sh. Gokul Chand Khurana of Vinobha Puri, Lajpat Nagar-II , New Delhi. Bhagawati Mata Vaishnu Devi Ji. Sankat Mochan Shree Hanuman Ji gifted by Smt. & Sh. Panna Lal Seth of J- Block, Lajpat Nagar-III, New Delhi. Another Sat Sang Hall (Iqbal Devi Hall) was built with the donation of Sh. Des Raj Chhabra, Ring Road, Lajpat Nagar-IV, in which Pratima of Bhagwan Shri Krishna Ji was fixed on the wall by the Sabha but the platform was built by the donation of Smt. Kaushalya Devi of Block-L, Lajpat Nagar III, New Delhi. The religious functions were regularly celebrated in most befitting manner with the blessing of Tyagmurti Shree 108 swami Gurcharan Dass Ji Maharaj, Pradhan Sadhu Samaj, Kankhal, Haridwar along with Karmisht Parchar Mantry, Sh. Surrinder Nath Mehniratta. The Sabha continued celebrating the religious functions as usual thereafter under the Presidentship of Sh. Kanwal Kishore Taneja and fortunately in August 1975 & September 1977 functions were graced by His Majesty.In the presence of itehas Kesri Prof. Jagan Nath Gothi. The construction work remained in progress simultaneously as stated below and the Sabha flourished by leaps and bounds under the Presidentship of Sh. Kanwal Kishore Taneja in association of Genl. Secretary Sh. Ram Prakash Budhiraja till his demise in September, 1986 and thereafter till his own sudden demise in November, 1990, during which the following works successfully executed. The Arti Hall was extended by accommodating (a) Idols of deities Bhagwan Shree Ram Ji Darabar gifted by SH. Om Mehta son –in-law of President and (b) Idols of Deities Bhagwan Shri Krishna Ji and Radha Rani Ji. A big Hall ( Baraat Ghar) with the basement and four rooms with the attached baths on the plot measuring 929 Sq yds. The expenses of which were partly borne by Lala Goverdhan Lal Trehan of C- Block, Lajpat Nagar-III, New Delhi. A Charitable Dispensary under the name and style of “ Shree Sanatan Dharam Sabha(Regd) Goverdhan Lal Trehan Charitable Dispensary” on the same plot out of the donation mostly given by him. Three rooms on the first floor on the existing ones for the residence of Pt. Maya Ram Pujari donated by Panna Devi Bajoria Charitable trust, Kolkata. A Shivalya with gold coated Kalash on its Shikhar in the courtyard of Mandir premises installing therein the idols of Lord Shiva Parivar gifted by Sh. Narinder Anand of Defence Colony. A high Shikhar on the main gate beautifully decorated with the marble stone of Ganesha Ji in front of the Mandir building the cost of which was partly footed by Sh. R.R. Chadha, Vice President and marriage bureau was also set up. The nomination of Sh. R.R. Chadha was as President on the sudden demise of Sh. Kanwal Kishore Taneja in November, 1990. Patron Chuni Lal Chawla was unanimously nominated as working President. On 14/11/1999, Sh. Prem Prakash Magu and Sh. Balkishan Sharma were elected as President And Genl. Secretary Respectively, however the General Secretary Sh. Balkishan Sharma suddenly expired And Sh. R.B. Gupta was nominated , but he could not continue for long therefore Prem Prakash Magu, President, Handed over the charge to Sh. Sat Pal Harjai. After the death of Shri P.P. Maguji , the President ship goes to Shri. Prem Juneja & Secretary to Shri Y.P. Ashok, Joint Secretary to Shri Rakesh Khanna , Vice President to Shri Deepak Dhawan, Yogesh Taneja, Prachar Mantri to Shri Rajiv Kohli, Treasurer to Shri Ashok Puri , Cashier to Shyam Sabharwal.    
Read more
श्री आद्या कात्यायनी शक्तिपीठ मंदिर-छतरपुर, दिल्ली
श्री आद्या कात्यायनी शक्तिपीठ...
छतरपुर मंदिर का इतिहास – Chhatarpur Temple History छतरपुर मंदिर दक्षिण दिल्ली में आता है। यह मंदिर देवी कात्यायनी को समर्पित है। इस मंदिर से जुडी एक बहुत अद्भुत और रोचक कहानी है। जिसे जानने के बाद हर कोई आश्चर्यचकित हो जाता है। उस पौराणिक कहानी के अनुसार एक बार एक ऋषि ने दुर्गा देवी की कठोर तपस्या की थी। उस ऋषि का नाम कात्यायन ऋषि था। उस ऋषि की कठोर तपस्या को देखकर दुर्गा देवी प्रसन्न हुई और उस ऋषि के सामने प्रकट हुई। देवी ने उस ऋषि की तपस्या से प्रसन्न होकर कहा की जो भी वरदान चाहते हो वो अवश्य मांगो। उसके बाद कात्यायन ऋषि ने देवी से कहा की आप मेरे घर में मेरी पुत्री बनकर जन्म लो। मुझे आपका पिता बनने की इच्छा है। ऋषि के यह शब्द सुनकर देवी प्रसन्न हुई और उसे इच्छा अनुरूप वरदान दे दिया। देवी ने फिर ऋषि के घर में कात्यायन पुत्री के रूप में जन्म लिया और तभी से देवी के उस अवतार को कात्यायनी देवी अवतार कहा जाता है। इसीलिए दिल्ली के इस मंदिर को कात्यायनी देवी का छतरपुर मंदिर कहा जाता है। यह मंदिर दिल्ली के दक्षिण पश्चिम के हिस्से में आता है और यह क़ुतुब मीनार से केवल 4 किमी की दुरी पर है। इस मंदिर की स्थापना बाबा संत नागपाल ने सन 1974 में की थी। उनकी मृत्यु 1998 में हो गयी। इस मंदिर परिसर में देवी कात्यायनी का मंदिर साल में दो बार नवरात्री के मौके पर ही खोला जाता है। क्यों की उस वक्त हजारों भक्त देवी के दर्शन हेतु यहापर बड़ी दुर से आते है। यहापर के एक कमरे में चांदी से बनी हुई खुरसिया और टेबल है तो दुसरे कमरे में जिसे शयन कक्ष भी कहा जाता है, उसमे बिस्तर, ड्रेसिंग टेबल और चांदी से नक्काशी किये हुए टेबल दिखाई देते है। यह मंदिर जब कोई बड़ा सत्संग आयोजित किया है तभी खोला जाता है जैसे की कोई धार्मिक कार्यक्रम और भजन का आयोजन किया जाता है। इस मंदिर के प्रवेश द्वार पर ही एक पुराना पेड़ है और इस पेड़ पर पवित्र धागे बांधे जाते है। अपनी इच्छाओं को पूरा करने के लिए लोग इस पेड़ को धागे और चुडिया बांधते है। लोग इस विश्वास के साथ इस पेड़ को धागे बांधते है की उनकी हर व्यक्त की गयी इच्छा पूरी हो जाए। नवरात्री उत्सव के दौरान हजारों भक्त देवी के दर्शन करने के लिए आते रहते है। कम शब्दों में कहा जाए तो भारत की धार्मिक विरासत को दर्शाने वाला छतरपुर का मंदिर काफी महत्वपूर्ण मंदिर है। यहाँ के शिव मंदिर, राम मंदिर, माँ कात्यायनी मंदिर, माँ महिषासुरमर्दिनी मंदिर, माँ अष्टभुजी मंदिर, झर्पीर मंदिर, मार्कंडेय मंदिर, बाबा की समाधी, नागेश्वर मंदिर, त्रिशूल, 101 फीट की हनुमान मूर्ति भक्तों के विशेष आकर्षण का मुख्य केंद्र है। इन मंदिरों के अलावा भी यहापर एक बहुत बड़ी ईमारत बनाई गयी है जिसमे हर दिन भंडारा का आयोजन किया जाता है। लगभग पुरे 24 घंटे यहापर कुछ ना कुछ धार्मिक प्रार्थनाये की जाती है। नवरात्री, महाशिवरात्रि और जन्माष्टमी के दौरान तो मंदिर में हजारों भक्तों की भीड़ लगी रहती है। इस अवसर पर लाखों भक्त देवी के दर्शन के लिए आते है, जिसकी वजह से यहाँ का नजारा काफी देखनेलायक होता है। नवरात्री के दिनों में यहापर लाखों लोगो को लंगर का प्रसाद बाटा जाता है, यह दृश्य देखनेवालो का अपनी आँखों पे विश्वास ही नहीं होता क्यों की यह दृश्य देखने में काफी सुन्दर होता है। छतरपुर मंदिर की वास्तुकला – Chhatarpur Mandir Architecture वास्तुकला की दृष्टि से छतरपुर का मंदिर एक अद्भुत मंदिर है क्यों की इस मंदिर के पत्थर कविताये दर्शाते है। 2005 में दिल्ली में अक्षरधाम मंदिर बनने से पहले यह छतरपुर मंदिर भारत का सबसे बड़ा और दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा मंदिर हुआ करता था। इस मंदिर को पूरी तरह से संगेमरमर से बनाया गया था और मंदिर के सभी जगहों पर जाली से काम करवाया गया था। इस तरह की वास्तुकला को वेसारा वास्तुकला कहा जाता है। बहुत बड़े जमीन पर फैले हुए इस मंदिर की सारी इमारते विभिन्न तरह के वस्तुओ से बनी है। इस मंदिर के परिसर में कई सारे सुन्दर बाग और लॉन बनाये गए है जिन्हें देखकर किसी भी भक्त के मन को शांति मिलती है। मंदिर में किये गए नक्काशी का काम सच में काफी प्रशंसनीय है। मंदिर के बड़े आकार की वजह से यहाँ का परिसर काफी अच्छा दीखता है। देवी कात्यायनी की मूर्ति एक बडेसे से भवन में स्थापित की गयी है और इस भवन में प्रार्थना के हॉल से भी प्रवेश किया जा सकता है। सोने के मुलामे से बने हुई देवी कात्यायनी की मूर्ति हमेशा भव्य कपडे, सोने और सुन्दर फूलो के हार से अलंकृत की जाती है। नवरात्रि के दिनों में तो यहाँ पर हजारों भक्तों की भीड़ लगी रहती है। इतनी बड़ी भक्तों की भीड़ को नियंत्रित करने के लिए उन्हें साप की कतार में खड़ा किया जाता है। इन लम्बी लम्बी कतारों को नियंत्रित करने के लिए बहुत सारे सुरक्षा रक्षक तैनात किये जाते है। छतरपुर मंदिर तक कैसे पंहुचा जा सकता है? – How to Reach Chattarpur Mandir देश की राजधानी दिल्ली के इस छतरपुर मंदिर में पहुचने के लिए पुरे देश से सुविधा उपलब्ध है। सबसे करीबी स्टेशन: निजामुद्दीन रेलवे स्टेशन यहा का सबसे नजदीक हवाई अड्डा इंदिरा गांधी अन्तर्राष्ट्रीय हवाईअड्डा। दिल्ली के छतरपुर मंदिर की कई सारी विशेषताए है। इस मंदिर की सबसे खास बात यह है की इस मंदिर में कोई अगर एक बार प्रवेश कर ले तो फिर वो मंदिर में चारो ओर घूमता ही रह जाता है। उसे मालूम ही नहीं पड़ता की कहा से मंदिर की शुरुवात है और कहा पर मंदिर से बाहर निकलने का रास्ता है। क्यों की इस मंदिर को बनाया ही है कुछ इस तरीके से की किसी भी दिशा में जाने के बाद मंदिर का अंतिम छोर नजर ही नहीं आता। ऐसा लगता है की हर दिशा में अन्दर जाने का रास्ता दिखता है और बाहर जाने का कोई नामोनिशान मिलता ही नहीं। इस मंदिर की दूसरी विशेषता यह है की मंदिर के प्रवेशद्वार पर एक बहुत ही पुराना और काफी बड़ा पेड़ है। लोगो की ऐसी श्रद्धा है की इस पेड़ को धागा या चुडिया बांधने से भक्त की इच्छा अवश्य पूरी हो जाती है। इसीलिए इस पेड़ के चारो ओर धागे और चुडिया बंधी हुई नजर आती है।
Read more
Shri Raghu Nath Mandir, DDA Flats, Kalkaji
Shri Raghu Nath Mandir, DDA Fl...
Shri  Raghu Nath Mandir Established in the Year 1981, this is the one and only temple in this area which construct by White Marble. Shri Raghu Nath Temple known as another name by White Marble Temple. The Camp Service of this temple is very famous for all Charity, Medical and a small activities function are over held in a temple more than 15 in a year. Further than Rashtriya Swayamsevak Sangh (RSS), Bajrang Dal meeting are held in a week days in our temple five to six times in a year. After every 3 to 4 months Mandir provide yoga Function, Patinjali Medicine Course, and Medical Camp for Sugar, ECG, all kinds of checkup are Free for all. We have Four Rooms Facility for all guests with Electricity, Water, and AC/Non AC. Shri Raghu NathMandir, Open a School in the Year 1982 name Sanatan Dharam Vidya Bhawan School (Regd.) from Primary to Class VIII, but due to Corona Virus school will remain closed till 31st March 2021.    Shri Raghunath Mandir have a one big hall for all types of functions like Kids Birthday, Jagran, Charity Meetings, Anniversy Function and many more. For Any Inquiry or Booking Please Contact:- Mr. P K Gaur 8860627604
Read more
 Kali Mata Mandir Chittaranjan Park (CR Park), Delhi
Kali Mata Mandir Chittaranjan...
Kali Mandir History Bengali settlement in Delhi down the timeline The first wave of Bengali settlers came when Calcutta and Delhi were first connected by train in 1864. With the shifting of capital to New Delhi in 1911, the shifting to government employees migrated to Delhi. Initially employees of central government departments like Post and Telegraph, Government of India Press, Accountant General of Central Revenues (AGCR) and Railways settled in Timarpur; thereafter in 1924, another phase of government housing came up near Gole Market for employees of the Secretariat. Overtime many employees after retirement settled in Karol Bagh and WEA, and later in South Delhi. Fallout of Partition of Bengal in 1947 In 1954, an association was formed for the refugees from the then East Bengal who were displaced from their homes during the Partition of India and the associated Partition of Bengal (1947). A large group of government officers hailing from the erstwhile East Pakisthan migrated to Delhi and lobbied for a residential colony. Leading roles were taken by Chandra Kumar Mukherjee, Subodh Gopal Basumallik, Bimal Bhusan Chakraborty, and the then Chief Election Commissioner, Shyamaprasanna Senverma. In the 1967, 218 acre land was assigned in a barren rocky area now known as Chittaranjan Park. Applicants were required to provide some documentation of their refugee status, and were required to be "already residing and gainfully employed in the capital"; based on this, 2147 people were given plots of land, initially on lease for 99 years, but subsequently converted into a freehold ownership. The EPDP ('East Pakisthan Displaced Persons' Association) registered in 1960 had key role in handling allotment and welfare of the habitation. It continues to be the Apex RWA in CR Park today. The original layout had the two-thousand odd plots, divided into eleven blocks A-K, along with a number of markets and cultural spaces. However, in the 1990s, 714 displaced families were accommodated among those who had not been able to meet the earlier deadline. This resulted in new blocks, called M, N, O, K-1, K-2, Pocket 40 (referred to as Navapalli), Pocket 52 (referred to as Dakhinpalli ) and Pocket-K. The main thoroughfare of the colony is Bipin Chandra Pal Marg. Notable Institutions which grew up over the years are- a branch of the Raisina Bengali School, Kali Mandir (also called the Shiv Mandir), Bangiya Samaj, Deshbandhu Chittaranjan Memorial, Bipin Chandra Pal Memorial Trust, Purbashree Mahila Samity,Aparajita Mahila samity, Shri Shri Lokenath Ashram. The colony was founded with plots going exclusively to migrants from East Bengal; but over time, the demographics has become a little more pan-Indian, though it continues to attract other Bengalis in general. Most of the residents are eminent ex-government servants, scholars, professors, teachers and other professionals. With an estimated 2000 Bengali families , it has emerged as a "mini Kolkata" in the capital. The explosive growth of South Delhi property prices and the aging of the original land allottees is resulting in an ongoing demographic diversification.
Read more
Shri Krishna Sanatan Dharam Mandir, B-2/R-4, Dharam Marg, Janakpuri
Shri Krishna Sanatan Dharam Ma...
  Shri Krishna Sanatan Dharam Mandir, B-2/R-4, Dharam Marg, Janakpuri   Shri  Krishna Sanatan Dharam Mandir Established in the year 1970. Every Tuesday and Saturday Pujan Of Lord Hanuman Ji and Lord Shani Dev Ji, a beautiful decoration of flowers and outdoor grading is a main attraction of a temple. Time to Time Pujan and Archana Asseamble in a Temple. Every Year on the Occasion of Janmasthmi, Ram Navmi, and Dusherra  they make a festival of Shoba Yatra. EXECUTIVE COMMITTEE SN NAME DESIGNATION MOBILE 1 Mr. Shashi Rajpal President 9891474636 2 Mr. B S Agarwal G Secretary 9312642123 3 Mr. Surender Virmani Jt Secretary 9891371679 4 Mr. M L Kalra Treasurer 9868261117 Facility of Marriage Bureau in a Temple Established year 2007. You can Register your Marriage and Fill the Form between: Morning 10:00AM to 12:00PM   Only on Saturday and Sunday For More Inquiry and Information you can Contact:- Mr. M L Kalra-9868261117   Shri Krishna Sanatan Dharam Mandir, Established a Medical Center in the year 2008. In our Dispensary we have, Physiotherapy, Dental, Homoeopathy, and all Lab Tests. We have Six reputed Doctors are visit in our hospital. Any Inquiry Please Contact:- Mr. Shashi Rajpal-9891474636                          
Read more
Shri Shiv Mandir
Shri Shiv Mandir
22 जनवरी 1984 मे श्री आर. के गोयल जी ने जो की उस समय के प्रधान थे उन्होने और सभी कार्यकर्णी ने मंदिर बनवाया और उस मे श्री सनातन धर्म का भी बहुत योगदान है ।
Read more
Shri Sanatan Dharam Sabha
Shri Sanatan Dharam Sabha
  Shri  Sanatan Dharam Mandir Established for the last 50 years. In the year 2007 the plot of 150gaj which the address was H-50, Rajouri Garden this property is hand over to Shri Sanatan Dharam Sabha temple trusties. After this they plan to make more and more implement in a temple, now today it’s a big and huge area. In our temple all Lord Birthdays are celebrate like a festival like Shivratri, Janmashtmi, Ram Navmi, Holi and others. Every Saturday and Sunday Evening 4 to 6 pm Ladies Sangeet Ayogen.
Read more
Shri Sanatan Dharam Mandir
Shri Sanatan Dharam Mandir
श्री सनातन धर्म मंदिर की स्थापना १९४७ में  रमेश नगर में की गई थी । मंदिर का निर्माण भव्यता से किया गया है। मंदिर मए सभी सनातनी त्योहारों को मनाया जाता है।मंदिर सभा जनसेवा में भी अपना योगदान करती है। मंदिर आम नागरिको के लिए होम्योपैथिक मेडिसन एवं उपचार की व्यवस्था भी उपलब्ध करता है। शिक्षा के छेत्र में मंदिर बचो के लिए स्कूल भी व्यवस्था है, (स डी मॉडल प्राइमरी स्कूल)।
Read more
Durga Temple
Durga Temple
मंदिर का निर्माण १९८७ में हुआ था । मंदिर का नाम माँ दुर्गा के नाम पर रखा गया है। मंदिर में हनुमानजी का स्थान ,शिवालय , गनेशी का स्थान, राम दरबार, साई बाबा का स्थान भी है। मंदिर समिति सनातन धर्म के हर त्यौहार को उत्साह से मनाती है। मदिर समिति जन सेवा के लिए होम्योपैथिक उपचार की व्यवस्था भी कराति है ।
Read more
श्री कृष्ण मंदिर, डेरा गाजी सभा, मालवीय नगर
श्री कृष्ण मंदिर, डेरा गाजी सभ...
JAI SHRI KRISHAN डेरा गाजी सभा, मालवीय नगर, नई दिल्ली पंजीकरण स. एस./10244/1979 डेरा गाजी खान सभा, मालवीय नगर, नई दिल्ली , दिल्ली सोसाइटी पंजीकरण अधिनियम के तहत साल 1979 मे पंजीकृत निकाय है इस निकाय के सदस्य मुख्य रूप से पंजाबी हिन्दू है जो मूल रूप से डेरा गाजी खान के है जो आजकल पश्चिमी पाकिस्तान मे है । हमारे पूर्वज डेरा गाजी खान से पलायन करके विभाजन के बाद दिल्ली और आसपास में आकर बसे है । सभा के रोजाना कार्यकलाप सभा के सदस्यो (डेरा गाजी खान के पंजाबी हिन्दू ) की चयनित बोड़ी द्वारा संचालित किए जाते है। बोड़ी के सदस्य मानक आधार पर कार्य करते है जिसकी वार्षिक आम सभा होती है डेरा गाजी खान सभा, मालवीय नगर द्वारा के-15 खिड़की एक्सटैन्शन, मालवीय नगर, नई दिल्ली मे भगवान श्री कृष्ण के छोटे मंदिर का नवीयन कार्य शुरू किया गया। इस समय यह मंदिर जर्जर हालत में था जिसमे भगवान श्री कृष्ण की एक मूर्ति थी। सभा द्वारा भक्तो की मदद से भगवान कृष्ण के दरबार का नवनीय कार्य शुरू किया गया तथा भगवान राम के दरबार को भी स्थापित किया गया । कुछ वर्षो के बाद मंदिर मे शिवालय (पार्वती माँ , गौरी माँ , भगवान गणेश तथा भगवान कार्तिकेय ) तथा दुर्गा माता दरबार का विस्तार किया गया। पिछले दशक में मंदिर मे भगवान हनुमान तथा लक्ष्मी नारायण दरवार मूर्तियो के साथ विस्तार किया गया । वर्ष 2009 मे श्री साई बाबा की भभ्य मूर्ति भी स्थापित की गई। उपरोक्त के अलावा मंदिर मे भूतल पर एक बड़ा वातानुकूलित हाल है जिसमे सभी समारोह के लिए स्टेज तथा साउंड वयवस्था है । भक्तो तथा चैरिटेबल सेवाओ के लिए कमरे बनाए गए है। भगवान की कृपा तथा भक्तो के सक्रिय सहयोग से दूसरे ताल पर योग, भंडारा आदि के लिए बड़े हाल का निर्माण किया गया है। इसमे एक किचन भी है जिसमे 500 भक्तो का भोजन बन सकता है। निर्धारित समय सारणी से मंदिर खुलता है। सभी पूजा रीति के अनुसार अनुभवी एव ज्ञानी वैदिक पंडितो द्वारा की जाती है। जन्माष्टमी, दीपावली, नवरात्रे, भगवतगीता कथा तथा रामायण पाठ सहित सभी मुख्य त्योहार सभा द्वारा आयोजित किए जाते है। सभा द्वारा वंचित एव गरीवो के लिए प्रत्येक गुरुवार साई बाबा लंगर आयोजित किया जाता है। सभा द्वारा चैरिटेबल तथा समाज सेवाए जैसे होमियोपैथी , आयुर्वेद , एक्यूपेचर , योग, दंत चिकित्सक, तथा फिजियोथेरिपी एवं पैथोलोजी, लैब (सैंपल कलेक्शन सेंटर) चलाई जाती है । सभा के निबंधन एवं शर्तो के अनुसार धार्मिक और सामाजिक कार्यो जैसे सत्संग  पगड़ी रस्म तथा विभिन्न चिकित्सा शिविर के लिए हाल तथा कमरे उपलब्ध हैं। हाल ही में सभा द्वारा ऑनलाइन विवाह सेवा केंद्र शुरू किया गया है जिसमे सभा के नियमो के अनुसार सुविधाए प्रदान की जाती है। भविष्य की योजनाओ में चैरिटेबल सेवाओ को बढ़ाना तथा वृद्ध एवं अशक्त लोगो के लिए लिफ्ट उपलव्ध करना है। इस मंदिर के रखरखाव तथा निर्माण की प्रक्रिया लगातार चलती रहेगी । भक्तो से निवेदन है कि किसी भी रूप (तन, मन तथा धन ) से मदद दें । !! जय श्री कृष्ण !!
Read more
Shri Sanatan Dharam Sabha, S Block, GK-II
Shri Sanatan Dharam Sabha, S B...
Shri Sanatan Dharam Sabha is the most reputed socio religious organization, situated in South Delhi GK-2. Established in the year 1977. It house six temples different duties along with a fully equipments a modern medical center for poor and needy two sat sung halls. We also serve regular bhandara and other charitable services. Every Year “Tulsi Vivah” samaroh is our main attraction which organized in our hall. Dispensary charge only Rs.20/- for a Card, and Free Medicine for Three Days. And Charge Rs.100/- for Dental, Homoeopathic, Pathologist, Eye Specialist, Physiotherapy, Skin Specialist and many more. Dr. Jha is Famous Heart Specialist from “National Hospital of Heart Institute” visit our Dispensary Four Days a Week. Timing of our Dispensary- Morning- 9:30AM to 12:30PM Evening-5:00PM to 7:00PM     Shri Sanatan Dharam Sabha, S Block, GK-II, have a two big halls for all charitable functions, katha kirtan, Shiv Ratri, Ganesh Chaturthi, Nav Ratre, Dusherra, Diwali, Holi, and many more functions organized in our halls. Every Year “Tulsi Vivah” samaroh is our main attraction which organized in our hall.     We have a Yoga Class from Morning and Evening. Timings:- 6:00AM to 7:30AM 5:30PM to 7:00PM For any Inquiry Please Contact this Number:- 9555011200    
Read more
Shri Ram Mandir Sanatan Dharam Sabha, Enclave-II, GK-II
Shri Ram Mandir Sanatan Dharam...
In the year 1978 Sanatan Dharam Sabha Established, Mr. C G Khanna is a Chairman of this Temple with a Members of 140 Peoples. Shri Ram Mandir is a big temple in the area of GK-II; they have 3 big halls & more space for Puja and Aarti. Daily in the Morning and Evening we have a class of Yoga. Sunder Kand on every morning and evening on Tuesday, Big Halls for any Family Functions, Marriage Fubctions, Katha and Kriya. On every Thursday the day of God Sai Baba we provide a Bhandara of 1500 peoples.  
Read more
Shri Sanatan Dharam Sabha, J3/34, Rajouri Garden
Shri Sanatan Dharam Sabha, J3/...
Shri  Sanatan Dharam Mandir Established for the last 50 years. In the year 2007 the plot of 150 Yards which the address was H-50, Rajouri Garden this property is hand over to Shri Sanatan Dharam Sabha temple trusties. After this they plan to make more and more implement in a temple, now today it’s a big and huge area. In our temple all Lord Birthdays are celebrate like a festival like Shivratri, Janmashtmi, Ram Navmi, Holi and others. Every Saturday and Sunday Evening 4 to 6 pm Ladies Sangeet Ayogen.
Read more
Shri Laxmi Narayan Mandir, E Block, Kalkaji
Shri Laxmi Narayan Mandir, E B...
Established in the year 1947, Shri Laxmi Narayan Mandir, E Block, Kalkaji. A temple has a special place in Indian Hindu life. It is an exclusive place where people go to worship, to pay their thanks to some Overseeing power for His bounties and blessings. There was a time when education was imparted in temples but it was purely religious. With members of 16 this temple provides a good facility of Dispensary and Hall. It is my routine to visit a temple. I can check each and every part of temple taking pictures of God and other beautiful of locality in a temple. I touched each image with my hands which I also applied to my eyes and then took a few rounds of the images. Almost all rang the bells hanging from the ceiling. They sat on the mats to pray. Shri Laxmi Narayan Mandir is really a place where one can have some moments of peace and tranquility. People visit temple to pray to God to fulfill their desires. Temple is a place where man really starts believing that he is mortal and he must do some good deeds to find a place at the feet of the Almighty.
Read more
Shri Laxmi Narayan Mandir, Malviya Nagar
Shri Laxmi Narayan Mandir, Mal...
Shri Laxmi Narayan Mandir, Malviya Nagar, Established in a year 1955. A very bigger temple in a area malviya nagar, for the last 65 years the growth of temple in a very unique line. From the day one to till date the growth of a temple specially in a part of service which mandir provide a good services.   The Lakshmi Narayan Temple in Delhi situated in Malviya Nagar is one of the famous Temples in India. It was built in 1955. The carvings and the ornate descriptions of many Indian deities respond to the interests of tourists in Sanatan Dharm.    Inside the temple grounds there are many other idols of different Indian gods and goddesses that inform tourists of the varied Indian culture and religious practices. The architecture of the temple, though depicts the ancient deities has a modern outlook. The temple is open on all days to for all except Saturday. Anyone entering the temple grounds is advised to take off their shoes before starting their tour inside.
Read more
 Shri Sanatan Dharam Hari Mandir, A-1 Block, Janakpuri
Shri Sanatan Dharam Hari Mand...
  Shri Sanatan Dharam Hari Mandir, A-1 Block, Janakpuri 110058   Shri  Sanatan Dharam Hari Mandir, Established in the year 1978. In the Year 1984 the whole Mandir Parisar helps to Sardars at that time when the Prime Minister Mrs. Indra Gandhi Attack by her own Bodyguard Sardar Jaswant Singh and Sardar Balwant Singh. Murtis on 1st Floor of Mandir Established in 1980. The Timings of Aarti in Summer Morning 6:30AM and Evening 7:15PM. The Timings of Aarti in Winters Morning 6:45AM and Evening 6:30PM. Kirtan and Rudraksh Path on every Monday Evening 8PM to 9PM. Hanuman Chalisa and Samuhik Path every Tuesday Evening 8PM to 9PM. Sunder Kand Path on every Saturday Evening 8PM to 9PM. Durga Mata Murti Function every year on 6th of May. And Holi, Govardhan Puja, and Diwali Festival are a main Attraction of a Temple.       Facility of a Physiotherapy and Dental Established in the year 2009.  A Good Technology of a Dental Machines is Facility in our Temple. With a very reasonable and Economy Rates. In case of any Inquiry Please Contact:- Mr. Vinod Sharma 9813517962                     
Read more
Shree Raghunath Mandir, Sanatan Dharm Sabha N-Block, Kalkaji
Shree Raghunath Mandir, Sanata...
Shri Raghu Nath Mandir Sanatan Dharam Sabha, N Block, Kalkaji   Shri  Raghu Nath Mandir Sanatan Dharam Sabha Established in the year 1965. For the last 55 years this temple provides much more Seva to all. A One big hall and six rooms facility in a temple, a member’s of 15 they look after all activities of Katha Kirtan, Jagran, Shiv Bharat, Janmastmi , Navratri Pujan, and a celebration of Holi.  
Read more
Geeta Bhawan Mandir, Malviya Nagar
Geeta Bhawan Mandir, Malviya N...
Geeta Bhawan Mandir, Malviya Nagar, Established in the month April Year 1965, Mr. Om Prakash Dhingra is a Pradhan of a Temple, a very short story of a temple from the day one every month a Ashtami Path Ayogen  on day of 15th.   In they year 1972 Organize Nirman Vihar by the Team of Muzzafarnagar Sanchalit   Every Year Kartik Samaroh, Ganesh Chaturthi and Holi Festival is very special functions organize by Geeta Bhawan. Physiotherapy, Ayurvedic, Yoga and two big halls provide a special service by Geeta Bhawan for Peoples. Pooja, katha, Kirtan, Aarti are an attraction part of Geeta Bhawan.     
Read more
Shri Raghu Nath Mandir, A Block, Kalkaji
Shri Raghu Nath Mandir, A Bloc...
Shri Raghu Nath Mandir in A Block, Kalkaji Established In the Year 1970. Mr. K L Arora is the President of this temple with members of 15, for the last 50 years more and more activities are club in this temple. On occasion of Dushera Festival arrange a small stall for kids to play games some more functions and after Pujan in the evening Ayogen of Ravan Vadh Ceremony. In a month of December every year function of Geeta Jayanti with bhandara of 1200 peoples. In our hall ceremony of Ram and Tulsi vivah as per the vidhi/vidan at the movement very few couple is taking part and advantage of this lovely day. Function of Mata ki Chowki pujan of seven days and aarti samaroh every year from 1 to 7 August.
Read more
Shri Laxmi Narayan Mandir, Pachim Vihar
Shri Laxmi Narayan Mandir, Pac...
  Shri Laxmi Narayan Mandir, Pachim Vihar Shri  Laxmi Narayan Mandir Established in the year 1978. Daily the timings of aarti morning and evening 05:30AM and 04:30PM. And every Second Sunday Hawan and Bhandara is a main Specieality of a Temple. More than 15 members are look after of a temple by time to time any cultural activity and a famous functions of like Shivratri, Holi, Ram Navmi, Dugra Puja, Dushera and many more. Sunder Kand and a pujan of Satya Narayan katha are nicely doing in mandir parisar. EXECUTIVE COMMITTEE SN NAME DESIGNATION MOBILE 1 Mr Sanjay Sharma Pradhan 9810029326 2 Mr Rajkumar Chabra Maha Mantri 9810666684 3 Mr I K Agarwal Treasure 9654703135 4 Mr Niranjan Agarwal Secretary 9313800051 5 Mr Madan Gupta G Secretary 9310036645 6 Mr Satish Kaushik Treasure 9811018474 7 Mr Himanshu Agarwal Treasure 9999399590 8 Mr Krishna Agarwal Mantri 9811832235 9 Mr Ramesh Chawla Member 9871078073 10 CA B L Goel Auditor 9811032710 11 Mr Subhash Chabra Jt Secretary 8375911059 12 Mr O P Rawal Advisor 9891445795 13 Mr Ratan Bhalla Advisor 9899568382 14 Mr Satpal Gupta Advisor 9871688346 15 Mr Naresh Gupta Advisor 9811006364 16 Mr Pawan Dodia Advisor 9313674910 17 CA Ashok Gupta Auditor 9811277697 18 Mr Subhash Arora Member 9990054000 19 Mr Yogesh Kumar Member 9213519567 Mandir Parisar start a Dispensary for the last 12 years. Homoeopathic, Physiotherapy and Eye Testing are three facilities available in a temple. Timings:- 08:30AM to 11:30AM 04:30PM to 07:30PM Any Inquiry Please Contact:- 9878071073  
Read more
img1
Visit More
Visit More

TEMPLE SERVICES

Marriage Bureau
View more
DISPENSARY/PATHOLAB
View more
Yoga/Music
View more
Skiil Program
View more
Hall Booking
View more
Green Temple
View more
The Art of Living
View more
Sanatan Library
View more

Panchang

Daily
Daily
Read more
Ekadashi
Ekadashi
Read more
Purnima
Purnima
Read more
Amavasya
Amavasya
Read more
Upcoming Festival
Upcoming Festival
Read more

Mantra/Chalisa

Mantra
Mantra
Read more
Chalisha
Chalisha
Read more
Aarti
Aarti
Read more
Granth
Granth
Read more
Stotra
Stotra
Read more

Green Temples

Shri Luxmi Narain Sanatan Dharam Mandir, Lajpat Nagar-III
Stotra
Shri Luxmi Narain Sanatan Dharam Mandir is one of the popular temples in Lajpat Nagar-III, New Delhi. Lajpat Nagar Colony, New Delhi came into existence by developing the land area south of India Gate beyond Dargah of Hazrat Nizammudin and the basti of Bhogal in the name of Great freedom fighter Punjab Keri Lela Lajpat Rai in order to rehabilitate the people who migrated as refugees from the erstwhile province of Punjab, Sind and NWF after the partition on India in August 1947, wherein Shri Sanatan Dharam Sabha was originally established in the hutments of Block ‘E’, Krishna Market , Lajpat Nagar-I, and was registered by registrar of societies, Delhi under Registration No. S-466(1950-1951). The Puja of moving idols of Deities was performed by Pt. Maya Ram Pujari. A piece of land measuring 1200 Sq yards for the construction of Mandir building was obtained from the Govt. of India (L&DO;) in Lajpat Nagar-I which was subsequently got exchanged in Lajpat Nagar-II and in addition obtained the adjoining plot measuring 929 Sq yards for social & cultural purpose in order to serve the public of entire Lajput Nagar I, II, III, IV. The work for construction of the building was started by selfless, dedicated and sincere members of integrity under the Presidentship of Seth Kalu Ram Ahuja, an eminent personality of the time in the association of knowledgeable General Secretaries for 23 years till his demise in December 1973. They raised funds by arranging Religious Parbhat Pheries , Bhagawat Kathas and Sammelans etc. and built a big Aarti hall on the plot of 1200 sq. yds. accommodating three shrines therein on the design of the Birla mandir, New Delhi. The foundation stone of which was laid down on Sharwan Purnima (Rakshabandhan) of 1958 (29.08.1958) by his Majesty. And the Darshanik idols of Deities Bhagwan Shree Laxmi Narain Ji gifted by Sh. Mool Chand Bhatia & Company, Electrical Contractors, Asaf Ali Road, New Delhi were installed in the Central Shrine with great pomp and Show during march 1961 and the Puja was performed by Pt. Maya Ram Ji. The idols of the Deities as mentioned below were also installed in the other two shrines and on the wall of art hall:- Bhagawan Shree Shiv Shanker Ji gifted by Sh. Gokul Chand Khurana of Vinobha Puri, Lajpat Nagar-II , New Delhi. Bhagawati Mata Vaishnu Devi Ji. Sankat Mochan Shree Hanuman Ji gifted by Smt. & Sh. Panna Lal Seth of J- Block, Lajpat Nagar-III, New Delhi. Another Sat Sang Hall (Iqbal Devi Hall) was built with the donation of Sh. Des Raj Chhabra, Ring Road, Lajpat Nagar-IV, in which Pratima of Bhagwan Shri Krishna Ji was fixed on the wall by the Sabha but the platform was built by the donation of Smt. Kaushalya Devi of Block-L, Lajpat Nagar III, New Delhi. The religious functions were regularly celebrated in most befitting manner with the blessing of Tyagmurti Shree 108 swami Gurcharan Dass Ji Maharaj, Pradhan Sadhu Samaj, Kankhal, Haridwar along with Karmisht Parchar Mantry, Sh. Surrinder Nath Mehniratta. The Sabha continued celebrating the religious functions as usual thereafter under the Presidentship of Sh. Kanwal Kishore Taneja and fortunately in August 1975 & September 1977 functions were graced by His Majesty.In the presence of itehas Kesri Prof. Jagan Nath Gothi. The construction work remained in progress simultaneously as stated below and the Sabha flourished by leaps and bounds under the Presidentship of Sh. Kanwal Kishore Taneja in association of Genl. Secretary Sh. Ram Prakash Budhiraja till his demise in September, 1986 and thereafter till his own sudden demise in November, 1990, during which the following works successfully executed. The Arti Hall was extended by accommodating (a) Idols of deities Bhagwan Shree Ram Ji Darabar gifted by SH. Om Mehta son –in-law of President and (b) Idols of Deities Bhagwan Shri Krishna Ji and Radha Rani Ji. A big Hall ( Baraat Ghar) with the basement and four rooms with the attached baths on the plot measuring 929 Sq yds. The expenses of which were partly borne by Lala Goverdhan Lal Trehan of C- Block, Lajpat Nagar-III, New Delhi. A Charitable Dispensary under the name and style of “ Shree Sanatan Dharam Sabha(Regd) Goverdhan Lal Trehan Charitable Dispensary” on the same plot out of the donation mostly given by him. Three rooms on the first floor on the existing ones for the residence of Pt. Maya Ram Pujari donated by Panna Devi Bajoria Charitable trust, Kolkata. A Shivalya with gold coated Kalash on its Shikhar in the courtyard of Mandir premises installing therein the idols of Lord Shiva Parivar gifted by Sh. Narinder Anand of Defence Colony. A high Shikhar on the main gate beautifully decorated with the marble stone of Ganesha Ji in front of the Mandir building the cost of which was partly footed by Sh. R.R. Chadha, Vice President and marriage bureau was also set up. The nomination of Sh. R.R. Chadha was as President on the sudden demise of Sh. Kanwal Kishore Taneja in November, 1990. Patron Chuni Lal Chawla was unanimously nominated as working President. On 14/11/1999, Sh. Prem Prakash Magu and Sh. Balkishan Sharma were elected as President And Genl. Secretary Respectively, however the General Secretary Sh. Balkishan Sharma suddenly expired And Sh. R.B. Gupta was nominated , but he could not continue for long therefore Prem Prakash Magu, President, Handed over the charge to Sh. Sat Pal Harjai. After the death of Shri P.P. Maguji , the President ship goes to Shri. Prem Juneja & Secretary to Shri Y.P. Ashok, Joint Secretary to Shri Rakesh Khanna , Vice President to Shri Deepak Dhawan, Yogesh Taneja, Prachar Mantri to Shri Rajiv Kohli, Treasurer to Shri Ashok Puri , Cashier to Shyam Sabharwal.    
Read more
श्री आद्या कात्यायनी शक्तिपीठ मंदिर-छतरपुर, दिल्ली
Stotra
छतरपुर मंदिर का इतिहास – Chhatarpur Temple History छतरपुर मंदिर दक्षिण दिल्ली में आता है। यह मंदिर देवी कात्यायनी को समर्पित है। इस मंदिर से जुडी एक बहुत अद्भुत और रोचक कहानी है। जिसे जानने के बाद हर कोई आश्चर्यचकित हो जाता है। उस पौराणिक कहानी के अनुसार एक बार एक ऋषि ने दुर्गा देवी की कठोर तपस्या की थी। उस ऋषि का नाम कात्यायन ऋषि था। उस ऋषि की कठोर तपस्या को देखकर दुर्गा देवी प्रसन्न हुई और उस ऋषि के सामने प्रकट हुई। देवी ने उस ऋषि की तपस्या से प्रसन्न होकर कहा की जो भी वरदान चाहते हो वो अवश्य मांगो। उसके बाद कात्यायन ऋषि ने देवी से कहा की आप मेरे घर में मेरी पुत्री बनकर जन्म लो। मुझे आपका पिता बनने की इच्छा है। ऋषि के यह शब्द सुनकर देवी प्रसन्न हुई और उसे इच्छा अनुरूप वरदान दे दिया। देवी ने फिर ऋषि के घर में कात्यायन पुत्री के रूप में जन्म लिया और तभी से देवी के उस अवतार को कात्यायनी देवी अवतार कहा जाता है। इसीलिए दिल्ली के इस मंदिर को कात्यायनी देवी का छतरपुर मंदिर कहा जाता है। यह मंदिर दिल्ली के दक्षिण पश्चिम के हिस्से में आता है और यह क़ुतुब मीनार से केवल 4 किमी की दुरी पर है। इस मंदिर की स्थापना बाबा संत नागपाल ने सन 1974 में की थी। उनकी मृत्यु 1998 में हो गयी। इस मंदिर परिसर में देवी कात्यायनी का मंदिर साल में दो बार नवरात्री के मौके पर ही खोला जाता है। क्यों की उस वक्त हजारों भक्त देवी के दर्शन हेतु यहापर बड़ी दुर से आते है। यहापर के एक कमरे में चांदी से बनी हुई खुरसिया और टेबल है तो दुसरे कमरे में जिसे शयन कक्ष भी कहा जाता है, उसमे बिस्तर, ड्रेसिंग टेबल और चांदी से नक्काशी किये हुए टेबल दिखाई देते है। यह मंदिर जब कोई बड़ा सत्संग आयोजित किया है तभी खोला जाता है जैसे की कोई धार्मिक कार्यक्रम और भजन का आयोजन किया जाता है। इस मंदिर के प्रवेश द्वार पर ही एक पुराना पेड़ है और इस पेड़ पर पवित्र धागे बांधे जाते है। अपनी इच्छाओं को पूरा करने के लिए लोग इस पेड़ को धागे और चुडिया बांधते है। लोग इस विश्वास के साथ इस पेड़ को धागे बांधते है की उनकी हर व्यक्त की गयी इच्छा पूरी हो जाए। नवरात्री उत्सव के दौरान हजारों भक्त देवी के दर्शन करने के लिए आते रहते है। कम शब्दों में कहा जाए तो भारत की धार्मिक विरासत को दर्शाने वाला छतरपुर का मंदिर काफी महत्वपूर्ण मंदिर है। यहाँ के शिव मंदिर, राम मंदिर, माँ कात्यायनी मंदिर, माँ महिषासुरमर्दिनी मंदिर, माँ अष्टभुजी मंदिर, झर्पीर मंदिर, मार्कंडेय मंदिर, बाबा की समाधी, नागेश्वर मंदिर, त्रिशूल, 101 फीट की हनुमान मूर्ति भक्तों के विशेष आकर्षण का मुख्य केंद्र है। इन मंदिरों के अलावा भी यहापर एक बहुत बड़ी ईमारत बनाई गयी है जिसमे हर दिन भंडारा का आयोजन किया जाता है। लगभग पुरे 24 घंटे यहापर कुछ ना कुछ धार्मिक प्रार्थनाये की जाती है। नवरात्री, महाशिवरात्रि और जन्माष्टमी के दौरान तो मंदिर में हजारों भक्तों की भीड़ लगी रहती है। इस अवसर पर लाखों भक्त देवी के दर्शन के लिए आते है, जिसकी वजह से यहाँ का नजारा काफी देखनेलायक होता है। नवरात्री के दिनों में यहापर लाखों लोगो को लंगर का प्रसाद बाटा जाता है, यह दृश्य देखनेवालो का अपनी आँखों पे विश्वास ही नहीं होता क्यों की यह दृश्य देखने में काफी सुन्दर होता है। छतरपुर मंदिर की वास्तुकला – Chhatarpur Mandir Architecture वास्तुकला की दृष्टि से छतरपुर का मंदिर एक अद्भुत मंदिर है क्यों की इस मंदिर के पत्थर कविताये दर्शाते है। 2005 में दिल्ली में अक्षरधाम मंदिर बनने से पहले यह छतरपुर मंदिर भारत का सबसे बड़ा और दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा मंदिर हुआ करता था। इस मंदिर को पूरी तरह से संगेमरमर से बनाया गया था और मंदिर के सभी जगहों पर जाली से काम करवाया गया था। इस तरह की वास्तुकला को वेसारा वास्तुकला कहा जाता है। बहुत बड़े जमीन पर फैले हुए इस मंदिर की सारी इमारते विभिन्न तरह के वस्तुओ से बनी है। इस मंदिर के परिसर में कई सारे सुन्दर बाग और लॉन बनाये गए है जिन्हें देखकर किसी भी भक्त के मन को शांति मिलती है। मंदिर में किये गए नक्काशी का काम सच में काफी प्रशंसनीय है। मंदिर के बड़े आकार की वजह से यहाँ का परिसर काफी अच्छा दीखता है। देवी कात्यायनी की मूर्ति एक बडेसे से भवन में स्थापित की गयी है और इस भवन में प्रार्थना के हॉल से भी प्रवेश किया जा सकता है। सोने के मुलामे से बने हुई देवी कात्यायनी की मूर्ति हमेशा भव्य कपडे, सोने और सुन्दर फूलो के हार से अलंकृत की जाती है। नवरात्रि के दिनों में तो यहाँ पर हजारों भक्तों की भीड़ लगी रहती है। इतनी बड़ी भक्तों की भीड़ को नियंत्रित करने के लिए उन्हें साप की कतार में खड़ा किया जाता है। इन लम्बी लम्बी कतारों को नियंत्रित करने के लिए बहुत सारे सुरक्षा रक्षक तैनात किये जाते है। छतरपुर मंदिर तक कैसे पंहुचा जा सकता है? – How to Reach Chattarpur Mandir देश की राजधानी दिल्ली के इस छतरपुर मंदिर में पहुचने के लिए पुरे देश से सुविधा उपलब्ध है। सबसे करीबी स्टेशन: निजामुद्दीन रेलवे स्टेशन यहा का सबसे नजदीक हवाई अड्डा इंदिरा गांधी अन्तर्राष्ट्रीय हवाईअड्डा। दिल्ली के छतरपुर मंदिर की कई सारी विशेषताए है। इस मंदिर की सबसे खास बात यह है की इस मंदिर में कोई अगर एक बार प्रवेश कर ले तो फिर वो मंदिर में चारो ओर घूमता ही रह जाता है। उसे मालूम ही नहीं पड़ता की कहा से मंदिर की शुरुवात है और कहा पर मंदिर से बाहर निकलने का रास्ता है। क्यों की इस मंदिर को बनाया ही है कुछ इस तरीके से की किसी भी दिशा में जाने के बाद मंदिर का अंतिम छोर नजर ही नहीं आता। ऐसा लगता है की हर दिशा में अन्दर जाने का रास्ता दिखता है और बाहर जाने का कोई नामोनिशान मिलता ही नहीं। इस मंदिर की दूसरी विशेषता यह है की मंदिर के प्रवेशद्वार पर एक बहुत ही पुराना और काफी बड़ा पेड़ है। लोगो की ऐसी श्रद्धा है की इस पेड़ को धागा या चुडिया बांधने से भक्त की इच्छा अवश्य पूरी हो जाती है। इसीलिए इस पेड़ के चारो ओर धागे और चुडिया बंधी हुई नजर आती है।
Read more
img1
Visit More
Visit More

About Sanatan Dharam

सनातन धर्मअपने हिंदू धर्म के वैकल्पिक नाम से भी जाना जाता है। ... 'सनातन' का अर्थ है - शाश्वत या 'हमेशा बना रहने वाला', अर्थात् जिसका न आदि है न अन्त। सनातन धर्म मूलतः भारतीय धर्म है, जो किसी समय पूरे बृहत्तर भारत (भारतीय उपमहाद्वीप) तक व्याप्त रहा है। विभिन्न कारणों से हुए भारी धर्मान्तरण के बाद भी विश्व के इस क्षेत्र की बहुसंख्यक आबादी इसी धर्म में आस्था रखती है। सिन्धु नदी के पार के वासियो को ईरानवासी हिन्दू कहते, जो 'स' का उच्चारण 'ह' करते थे। उनकी देखा-देखी अरब हमलावर भी तत्कालीन भारतवासियों को 'हिन्दू' और उनके धर्म को हिन्दू धर्म कहने लगे। भारत के अपने साहित्य में हिन्दू शब्द कोई 1000 वर्ष पूर्व ही मिलता है, उसके पहले नहीं।

Read more

सनातन जगत की वर्तमान स्थिति

नैतिकता प्रधान वर्त्तमान भोगवादी काल में अध्यात्म प्रधान वैदिक सनातन धर्म पर विधर्मियो ने सत्ता और प्रभाव से घनघोर आक्रमण प्रारम्भ किये और यहाँ की विशुद्ध यह स्थिति केवल भारत के लिए ही नहीं अपितु समग्र विश्व के लिए घातक हो सकती है। ऐसे विकटपतन की ओरअग्रसर समय में सनातन धर्म की रक्षा प्रत्येक भारतवासी का कर्त्तव्य बन जाता है। ‘धर्मो रक्षति रक्षित:’ हम धर्म की रक्षा करेंगे तो धर्म हमारी करेगा। भारतीय दर्शन का सिध्दांत है. यतोभ्युदयनि: श्रेयससिध्दि: स: धर्म: जिस कर्म के करने से मनुष्य अपना अभ्युदय कर वह कर्म ही धर्म है. यह धर्म की निर्विवाद परिभाषा है। वैदिक सनातन धर्म की सहिष्णुता तथा उदारता को उसकी दुर्बलता के रूप में नहीं देखना चाहिए। किन्तु विधर्मी समाज इसे हमारी कमजोरी मानकर विभिन्न प्रकार से हिन्दू समाज एवं सनातन धर्म पर अनेक प्रकार के आघात करता जा रहा है। देवी-देवताओं के विज्ञापन तथा दूरदर्शन चैनलों के माध्यम से अभद्र रूप में प्रदर्शित करना एवं अपमानित करना सब योजनाबद्ध व् प्रायोजित रूप से किया जा रहा है।इन्हीं सब चुनौतियों का समुचित उत्तर देकर सनातन धर्म के वास्तविक स्वरुप से सर्वसाधारण को परिचित करना श्री सनातन धर्म प्रतिनिधि सभा दिल्ली का संकल्प है। हिन्दुओं के धर्मस्थल, मठ, आश्रम, अनेकविध समाज के प्रेरणा स्रोत रहे है। वे धर्म प्रचार, कला संरक्षण, पारिवारिक, सामाजिक, राष्ट्रीय व मांगलिक कार्यो के केंद्र रहे है।किन्तु आज उचित दिशा निर्देश तथा सशक्त संरक्षण के आभाव में इन धर्म स्थलों की दशा चिंतनीय है।हिन्दू समाज की उपेक्षा तथा शासकों की पाश्चात्य प्रेरित गलत नीतियों के परिणाम स्वरूप धर्मस्थलों की रक्षा करना कठिन होता जा रहा है।इन्ही सभी ज्वलंत विषयों को ध्यान में रख कर दिल्ली से कुछ अनुभवी सनातन धर्म प्रेमियों श्री जयकिशन दस अग्रवाल, श्री मनोहर लाल कुमार, श्री मानस वाचस्पति पं. त्रिलोक मोहन, श्री रोशन लाल अग्रवाल, गणेश शास्त्री, श्री जय नारायण खण्डेलवाल, श्री राजकुमार ऐरी, श्री बंसी लाल वर्मा, श्री रामगोपाल शुक्ल, श्री महन्त जगदीश गिरी, श्री योगराज ने मिलकर सन 1987 में समय की मांग के अनुरूप दिल्ली प्रदेश के समस्त सनातन धार्मिक संस्थानों का एक सुदृढ़ संगठन खड़ा करने की योजना बनाई ओर इस प्रकार श्री सनातन धर्म प्रतिनिधि सभा दिल्ली का श्री गणेश हुआ और सभी मन्दिरों को एकसूत्र में बाँधने का कार्यक्रम आरम्भ हुआ। सभा का कार्य केवल मन्दिरों का धार्मिक, सामाजिक एवं सांस्कृतिक कार्योमें सक्षम बनाना होगा। पारस्परिक परामर्श सहयोग से सनातन जगत की सभी समस्याओं का समाधान होगा।

अमूल्य निशुल्क सेवाएँ

१. पिछड़े बंधुवर्ग से सम्बन्धित अनाथ युवकों एवं कन्याओं का सामूहिक विवाह तथा व्यक्तिश: अन्य प्रकार आर्थिक सहायता ।
२. विकलांगों को विविध प्रकार की सहायता एवं स्वावलम्बी बनाना ।
३. अभावग्रस्त विद्यार्थियों को आर्थिक सहायता ।
४. यथा सम्भव प्रत्येक मंदिर के माध्यम से जनसमाज के लिये सेवा-प्रकल्प का सुचारु संचालन ।
५. वृद्धों की हर प्रकार से देखभाल एवं सम्मान ।
६. अस्पतालों में नि:शुल्क रक्त प्रदान करवाना ।
७. गीता प्रेस गोरखपुरके के साहित्य का प्रसार करना ।
८. वनवासी परिवारों की सेवा एवं सहायता ।

वार्षिक गतिविधियाँ

१.प्रतिवर्ष रामायण एवं गीता ज्ञान प्रतियोगिताओं का आयोजन किया जाता है, जिसमें अनेक विद्यालय भाग लेते हैं प्रतियोगिताएं क्षेत्रीय एवं केन्द्रीय स्तर पर होती है । प्रतिवर्ष मई—जून मास में बालकों / बालिकाओं के व्यक्तित्व विकास हेतु योग आधारित नैतिक शिक्षा शिविर मंदिरों मे आयोजित किए जाते हैं ।
२. अक्षय तृतीया / बसंत पंचमी पर निर्धन कन्याओं के सामूहिक सरल विवाह आयोजित किये जाते हैं ।
३. अव्यवस्थित एवं अस्थायी मंदिरों को व्यवस्थित तथा स्थायित्व प्रदान करना सभा का प्रमुख कार्य है ।
४. विशेष पर्वो पर क्षेत्रीय स्तर पर सामूहिक शोभा यात्राओं तथा विशेष अनुष्ठानों आदि में सभा की सहभागिता रहती है ।
५. विभिन्न संस्थाओं का समन्वय कर मंदिरों में अभावग्रस्त परिवारों के लिए सभी प्रकार के सेवा प्रकल्प चलाये जाते हैं ।
६. सभा के वार्षिकोत्सव के रूप में गीता जयंती महोत्सव के क्षेत्रीय तथा केन्द्रीय आयोजन मनाये जाते हैं।

सभा की कार्यप्रणाली

१.विभागीय समितीय का गठन कार्य क्षेत्र के मन्दिरों को धार्मिक एवं सेवा कार्यो में प्रवृत्त करना।
२.मन्दिरों के हितों की सभी दृष्टिकोणों से रक्षा करना एवं धर्म प्रचारक भजनीक तथा कर्मकाण्डी अर्चकों को प्रशिक्षित करना।
३.विभागीय स्तर पर सामूहिक कार्यक्रम का आयोजन करना।
४.मन्दिरों में दैनिक पूजाविधि एवं आरती आदि के समय में एकरूपता लाना।
५.सभा के उदेश्यों के प्रचार हेतु धार्मिक साहित्य प्रकाशित करना।
६.मन्दिरों के लिए धर्मप्रचारक भजनीक एवं अर्चकों को उपलब्ध करना।
७.सनातन धर्म से समबन्धित/संचालित विद्यालयों का सशक्त संगठन खड़ा कर बच्चों तथा युवाओं को सनातन वैदिक परम्परा से अवगत कराना।
८.धर्मिक यात्राओं का आयोजन करना।
९.वार्षिक व्रत पर्वोत्सव पुस्तिका का प्रकाशन कर पर्व तिथियों का निश्चित करना।
१०.सनातन समाज के धर्मिक, सामाजिक व राष्ट्रीय कर्तव्यों का बोध कराने हेतु “सनातन संदेश” माषिक पत्रिका का प्रकाशन वर्ष 2000 से नियमित हो रहा है।
११.युवाओं को संगठित कार्य धर्मिक, सामाजिक व नैतिक शिक्षा देकर उन्हें राष्ट्र के प्रति प्रतिबध्द करना।
१२.महिला संगठन के माध्यम से उन्हें धर्म प्रचार, संस्कार सेवा में संलग्न करना।
१३.गौ सेवा, गौ संवर्धन के लिए गोष्ठियों का आयोजन करना।
१४.सभा के कार्य संचालन हेतु भव्य सनातन धर्म भवन का निर्माण करना।
१५.एक पुष्तकालय की स्थापना, जिसमे आधुनिक उपकरण भी उपलब्ध हो, जिसमे सनातन धर्म की सभी शाखाओ से सम्बध्द सन्दर्भ ग्रंथो का संग्रह हो. वैदिक साहित्य उपनिषद, इत्यादि सभा की प्राथमिकता होगी।

विनम्र प्रार्थना

सनातन धर्म बन्धुओं से निवेदन है की वर्तमान में मन्दिरों से सम्बन्धित बन्धुओं पर बहुत बड़ा उत्तरदायित्व है की आज धर्म, के प्रति दिग्भ्र्मित सामान्य जन में श्रद्धा ओर विश्वास का विशेष आधान करे। अन्यथा कालान्तर में समाज एवं परिवार का नेतृत्व करने पर उनमे धर्म के प्रति श्रद्धा विश्वास नहीं होगा। इससे निश्चित रूप से सनातन हिन्दू समाज तथा राष्ट्र का बहुत बड़ा अहित होगा. अत: हम अपने उत्तर्दायियत्व का अवश्य निर्वहन करें तथा प्रत्येक सनातन बन्धु तन- मन- धन से सभा से अथवा किसी भाव से सेवा करें। इन सारि व्यवस्थाओं के निर्वहन के लिए केंद्रीय / विभागीय एवं जिला पदाधिकारी वार्षिक 2100/- रु सहयोग राशि के रूप में सभा को दे रहे है। सम्पन्न सनातन धर्मावलंबी बन्धु 15000/- रु का सहयोग दे कर संरक्षण मण्डल के सदस्य बन सकते है। उक्त राशि सभा के फिक्स्ड डिपॉज़िट में जमा रहेगी आजीवन सदस्य्ता बनने हेतु 5000/- रु का सहयोग प्रार्थित है। आह्वान करना

विभिन्न क्षेत्रो के मन्दिर तथा जिला समितियों के लिए कर्मठ युवा सनातन धर्म बन्धुओं की अत्यन्त आवश्यकता है।ऐसी स्थिति में हम आपकी ओर आशा भरी पवित्र दृस्टि से देख रहे है ओर हमें पूरी आशा ही नहीं परन्तु विश्वास हे की दिल्ली का समस्त सनातन जगत पूज्य सन्तों की छत्रछाया में जुड़ कर के एक आवाज बनेगा। आओ सनातनजगत में एक आवाज से तन-मन-धन की आहुति प्रदान करे आप भी जगे औरो को भी जागृत करें जिससे आने वाली पीडिया गर्व का अनुभव कर सकें - यही हमारी वाणी है।

सभा सदस्य

• केंद्रीय प्रबंध समिति
• पूर्वी विभाग
• पश्चिम विभाग
• उत्तर विभाग
• दक्षिण विभाग
• मध्य विभाग

website-home-page-bottom-image
Need Any Help